Home राजनीति सेंट्रल एसी के इस्‍तेमाल को लेकर दिल्‍ली हाई कोर्ट में याचिका, केंद्र...

सेंट्रल एसी के इस्‍तेमाल को लेकर दिल्‍ली हाई कोर्ट में याचिका, केंद्र से मांगा जवाब

298
Listen to this article

सेंट्रल एसी के इस्‍तेमाल पर सवाल उठाते हुए दिल्‍ली हाई कोर्ट ने कहा है कि इसका इस्‍तेमाल जिन कार्यालयों या भवनों में होता है वहां संक्रमण अधिक तेजी से फैल सकता है। कोविड-19 से जुड़े मामलों के मद्देनजर शुक्रवार को दिल्‍ली हाई कोर्ट (Delhi High Court) ने केंद्र व आम आदमी पार्टी (AAP) सरकार से सेंट्रल एयरकंडीशन वाले कोर्ट समेत तमाम बिल्‍डिंग के इस्‍तेमाल से जुड़ी एक याचिका पर प्रतिक्रिया की मांग की। याचिका में कहा गया है कि ऐसे भवनों व संस्‍थानों का इस्‍तेमाल एहतियात के साथ किया जाए ताकि कोरोना वायरस के संक्रमण को फैलने से रोका जा सके।

चीफ जस्‍टिस डीएन पटेल (D N Patel) और जस्‍टिस सी हरिशंकर ( C Hari Shankar) ने केंद्र और दिल्‍ली सरकार के साथ हाई कोर्ट के रजिस्‍ट्रार को नोटिस जारी किया और वकील केसी मित्‍तल (K C Mittal) द्वारा बढ़ाए गए इस आवेदन पर उनकी ओर से प्रतिक्रिया की मांग की।

याचिका में बार काउंसिल के हेड मित्‍तल ने कहा है कि संक्रमित शख्‍स का कफ, छींक या आंसू से एयर-कंडीशनिंग यूनिटों में यह आसानी से फैल सकता है। उन्‍होंने आगे कहा कि ड्रॉपलेट संक्रमण को स्‍टरलाइजेशन से हटाया जा सकता है लेकिन यह संक्रमण यदि एक बार सेंट्रल एयर कंडिशनिंग के एयर डक्‍ट में प्रवेश कर गया तो यह बिल्‍डिंग में मौजूद सैंकड़ो लोगों को संक्रमित कर देगा।

केंद्र सरकार के वकील अजय दिग्‍पॉल ( Ajay Digpaul) सेंट्रल पब्‍लिक वर्क डिपार्टमेंट का प्रतिनिधत्‍व भी कर रहे थे। उन्‍होंने कहा कि एसी यूनिट के रख रखाव व सफाई को लेकर 22 अप्रैल को गाइडलाइन जारी की गई जो कोर्ट के समक्ष पेश किया जाएगा। दिल्‍ली सरकार की ओर से वकील संजय घोष (Sanjoy Ghose) और पब्‍लिक वर्क्‍स डिपार्टमेंट की ओर से एडवोकेट नमन ने कहा कि अगली सुनवाई में इस नोटिस का जवाब देंगे। बेंच ने मामले की अगली सुनवाई के लिए 1 मई की तारीख निश्‍चित की है।