Breaking News
झबरेड़ा:- जिला टेनिस बॉल क्रिकेट में एंबीशन पब्लिक स्कूल के 8 छात्रों का चयनझबरेड़ा:- तीन दिवसीय जिला हरिद्वार में आयोजित प्रशिक्षण वर्ग का हुआ समापन, हरिद्वार सांसद डॉक्टर रमेश पोखरियाल निशंक ने कार्यकर्ताओं को किया संबोधितझबरेड़ा:- कृषि उत्पादन मंडी समिति मंगलौर अध्यक्ष व सचिव ने दुर्घटना सहायता राशि का चेक पीड़ित किसान को देकर दी वित्तीय सहायताझबरेड़ा:- केरल निवासी व्यक्ति के साथ जमीन दिलाने को लेकर धोखाधड़ी कर उड़ाए लाखों रुपए,पीड़ित की रकम न देने पर 3 के खिलाफ कराया मुकदमा दर्जझबरेड़ा:- 13 लोगों ने रात के समय घर में सोते हुए लोगों पर किया हमला,पीड़ित ने थाने में तहरीर देकर कराया मुकदमा दर्ज
स्वामी को जीत का ‘प्रसाद’ मिलने में संशय, अपनी ही सीट पर फंसे ‘चुनाव जिताऊ’ नेता – Dainik News – Latest News in Hindi | Breaking News

स्वामी को जीत का ‘प्रसाद’ मिलने में संशय, अपनी ही सीट पर फंसे ‘चुनाव जिताऊ’ नेता

चुनाव से ऐन पहले भाजपा छोड़कर चर्चा बटोरने वाले स्वामी प्रसाद मौर्य खुद को पार्टियों के लिए ‘चुनाव जिताऊ’ नेता बताते रहे हैं। मायावती से लेकर भाजपा तक को सत्ता के सिंहासन तक पहुंचाने का दम भरते रहे हैं। लेकिन वह कुशीनगर जिले की फाजिलनगर सीट पर अपने ही चुनाव में फंसते दिख रहे हैं। पडरौना सीट से मौजूदा विधायक स्वामी प्रसाद मौर्य ने इस बार अपनी सीट बदली है। फाजिलनगर में उनका सामना भाजपा के सुरेंद्र कुशवाहा से हो रहा है, जो दो बार के विधायक गंगा सिंह कुशावाहा के बेटे हैं। गंगा सिंह ने 2017 में इस सीट पर 48 फीसदी वोट पाकर जीत दर्ज की थी।

सुरेंद्र कुशवाहा पिछड़ी बिरादरी से आते हैं, जबकि स्वामी प्रसाद पिछड़े वर्ग का खुद को नेता बताते हैं। ऐसे में यह देखने वाली बात होगी कि जनता किस पिछड़े नेता को चुनावी जंग में अगड़ा बनाती है। लेकिन यह तो तय है कि भाजपा की ओर से भी ओबीसी कैंडिडेट देने से वोटों का बंटवारा होगा। लेकिन इस चुनाव में एक्स फैक्टर बनकर उभरे हैं बसपा के उम्मीदवार इलियास अंसारी। वह लंबे समय तक सपा में रहे हैं, लेकिन स्वामी प्रसाद के फाजिलनगर आने से उनका पत्ता कट गया था। इसके बाद उन्होंने बसपा का दामन थाम लिया और हाथी पर सवार हो चुनाव में उतर पड़े हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published.